top of page

“मैं कौन हूँ”


मन कुछ कहता हैं , तू कुछ कहता हैं।

मुझे बताओ में किसकी सुनू।

मन की या तू की।

मुझे दर्द हैं , तू सुनता नहीं. मन मानता नहीं।

वो कहता हैं मन की सुन ,

मैं कहती हूँ तू उसकी न सुन।

मन और तू

दोनों वहम हैं

दोनों अपने में बे मतलब हैं

तू मेरी सुन में वो हूँ जो तू नहीं।

मैं तुम हूँ तुम मैं हूँ

इस मन और तू के बीच भूल मत जाना

मैं कौन हूँ।

एक महबूबा हूँ

एक औरत

एक लड़की

एक बहन

एक मां हूँ।


12 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

पेड़ो पर मेरी कविता  "जीवन बिन तेरे नहीं " जहाँ जीवन की सुबह हम जाने। जहाँ हरा भरा जीवन मेरा। जहाँ रंग बिरंगी सुबह हैं।  जहा बदलो की घटा हैं। जहा मचलती फ़िज़ा हैं।  जहाँ सुबहो का संगीत हैं।  जहाँ लहराती

bottom of page